प्राचीन ज्योतिष शास्त्र से आपकी कन्या राशि

हमने पता लगाया कि आधुनिक कुण्डली कैसे अस्तित्व में आई, हमने इसे ज्योतिष विज्ञान के इतिहास में इसके प्राचीन मूल में जाते हुए खोजबीन की। अब हम राशि चक्र की पहली राशि कन्या राशि की जाँच करते हैं। यह नक्षत्र मण्डल कन्या राशि में है, जिसे कुँवारी कन्या के रूप में भी जाना जाता है, इसमें हम एक विरोधाभास भी देखते हैं, जो केवल तभी स्पष्ट होता है, जब आप तारा मण्डल को देखते हैं।

कन्या राशि एक कुंवारी कन्या का नक्षत्र मण्डल है। यहाँ कन्या राशि बनाने वाले तारों का एक चित्र दिया गया है। ध्यान दें कि तारों में कन्या (इस कुंवारी स्त्री) को ‘देखना’ असंभव है। सितारे स्वयं स्वाभाविक रूप से स्त्री के चित्र को नहीं बनाते हैं।

कन्या राशि का रात्रि में दिखाई देने वाला आकाश का चित्र। क्या आप कुँवारी स्त्री को देख सकते हैं?
कन्या नक्षत्र मण्डल रेखाओं से जुड़े हुए तारों के साथ

भले ही हम विकिपीडिया के इस चित्र के अनुसार कन्या राशि के नक्षत्रों को रेखाओं से जोड़ते हैं, फिर भी इन तारों के साथ एक स्त्री को ‘देखना’ कठिन है, तो फिर एक कुँवारी स्त्री को देख पाने की तो बात ही छोड़िए।

परन्तु अतीत के विद्यमान दस्तावेज में यही वर्णन संकेत दे रहा है। कन्या राशि को अक्सर पूर्ण विवरण में दिखाया जाता है, परन्तु विवरण स्वयं नक्षत्र मण्डल से नहीं आता है।

कन्या राशि की स्त्री के चित्र को तारों के ऊपर बड़े विस्तार के साथ दिखाया गया है

चित्रा या स्पाइका तारा कन्या के रहस्य को और अधिक गहरा कर देता है

नीचे दिए गए चित्र में मिस्र के डेंडेरा मन्दिर में उपलब्ध सम्पूर्ण राशि चक्र को दिखाया गया है, जो कि 1ली शताब्दी ईसा पूर्व का है, जिसमें 12 राशि चक्र शामिल हैं। कन्या को लाल रंग से गोला किया गया है, जबकि दाईं ओर का रेखाचित्र राशि चक्र के चित्रों को और अधिक स्पष्ट रूप से दिखाता है। आप देख सकते हैं कि कन्या के पास अनाज का एक बीज है। अनाज का यह बीज कन्या नक्षत्र मण्डल का सबसे चमकीला तारा चित्रा अर्थात् स्पाईका है।

प्राचीन मिस्र के डेंडेरा राशि चक्र चित्र में कन्या राशि को लाल रंग से गोला किया है

यहाँ रात के आकाश के चित्र में चित्रा को दिखाया हुआ है, जिसमें कन्या राशि से सम्बन्धित तारे रेखाओं से जुड़े हुए हैं।

चित्रा तारे के साथ कन्या तारा मण्डल को दिखाया गया

वैदिक कुंडली में चित्रा का विशेष स्थान है। आकाश में पाए जाने वाले तारा-समूह को नक्षत्र (शाब्दिक अर्थ “तारे”) कहते हैं। यह साधारणतः भारतीय रूप में चन्द्रमा के विभिन्न पथों से जुड़े हुए होते हैं। आमतौर पर इनकी सँख्या 27 होती है परन्तु कभी-कभी 28 भी होती है और उनके नाम प्रत्येक क्षेत्र में सबसे प्रमुख नक्षत्रों से सम्बन्धित होते हैं। आधुनिक परम्परा के अनुसार वे नक्षत्र पथ पर एक बिन्दु से शुरू होते हैं, जो स्पाइका (संस्कृत में: चित्रा) के ठीक विपरीत है।

स्पाइका इतना अधिक महत्वपूर्ण क्यों है? कोई कैसे जान सकता है कि स्पाइका अनाज का बीज है (कभी-कभी मक्की का एक दाना)? जिस प्रकार कन्या राशिफल से कुँवारी स्त्री प्रकट नहीं होती, ठीक वैसे ही यह स्वयं नक्षत्र मण्डल में प्रकट नहीं होता है। यह कन्या राशि का विरोधाभास है: चित्र स्वयं अपने आप नहीं बनता है, या स्वयं नक्षत्र से नहीं आता है।

कन्या राशि के आने से पहले एक विचार के रूप में कन्या पहले से अस्तित्व में थी

इसका अर्थ यह है कि कन्या – अनाज के बीज को लिए हुए कुँवारी स्त्री – को तारों के भीतर देखकर नहीं बनाया गया था। अपितु, अनाज के बीज के साथ कुँवारी के बारे में पहले से सोचा गया था और फिर इसे नक्षत्र मण्डल में गढ़ दिया गया था। इस कारण कन्या अपने बीज के साथ कहाँ से आई? किसके मन में पहले कुँवारी का विचार आया और फिर उसे और उसके बीज को कन्या के रूप में तारों में गढ़ दिया गया?

हमने देखा कि सृष्टिकर्ता की कहानी को स्मरण रखने में मदद करने के लिए सबसे प्राचीन लेखों ने इसका श्रेय परमेश्वर और आदम/मनु की प्रथम सन्तान को दिया है। कन्या राशि का चिन्ह ठीक उसी स्थान से मेल खाता है जहाँ से यह कहानी इब्रानी और संस्कृत दोनों वेदों में आरम्भ होती है।

आरम्भ से कन्या की कहानी

सतयुग के स्वर्ग में, जब आदम/मनु ने अवज्ञा की और परमेश्वर ने सर्प (शैतान) का सामना किया, तो उसने उससे प्रतिज्ञा की कि:

और मैं तेरे और इस स्त्री के बीच में, और तेरे वंश और इसके वंश के बीच में बैर उत्पन्न करूँगा; वह तेरे सिर को कुचल डालेगा, और तू उसकी एड़ी को डसेगा।

उत्पत्ति 3:15
स्वर्ग में बताए गए पात्र और उनके रिश्ते। संतान वाली स्त्री कन्या राशि का मूल अर्थ है। पूर्वजों ने इस वादे को याद रखने के लिए कन्या नक्षत्र का इस्तेमाल किया

स्वर्गलोक में पहले से ही पात्रों और उनके सम्बन्धों को बता दिया गया था। कन्या राशि का मूल अर्थ सन्तान वाली स्त्री है। पूर्वजों ने इस प्रतिज्ञा को स्मरण रखने के लिए कन्या नक्षत्र मण्डल का उपयोग किया। परमेश्वर ने प्रतिज्ञा की थी कि एक ‘वंश’ या सन्तान (शाब्दिक रूप से एक ‘बीज’) एक स्त्री से आएगी – जिसमें उसका मिलन एक पुरुष के साथ नहीं होगा – इस प्रकार वह एक कुँवारी होगी। कुँवारी का यह बीज सर्प के ‘सिर’ को कुचल देगा। एक कुंवारी स्त्री से पैदा होने का एकमात्र दावा हमें नासरत के यीशु में दिखाई देता है। एक कुंवारी से बीज के आने की घोषणा समय के आरम्भ में की गई थी और इसे संस्कृत वेदों में पुरुषा के रूप में याद किया गया था। पहले मनु की प्रथम सन्तान को, सृष्टिकर्ता की प्रतिज्ञा को स्मरण करने के लिए, कन्या को उसके बीज (स्पाइका) के साथ बनाया गया और उसके चित्र को नक्षत्र मण्डल में रख दिया गया ताकि उनके वंशज इस प्रतिज्ञा को स्मरण रख सकें।

प्राचीन कन्या राशिफल

चूँकि कुण्डली = होरो (घड़ी) + स्कोपस (देखने के लिए चिह्न) हम कन्या और उसके बीज के ऊपर इसे लागू कर सकते हैं। यीशु ने स्वयं कन्या + स्पाइका ‘घड़ी’ को चिन्हित किया जब उसने ऐसे कहा:

23इस पर यीशु ने उनसे कहा, “वह समय आ गया है कि मनुष्य के पुत्र की महिमा हो। 24मैं तुम से सच सच कहता हूँ कि जब तक गेहूँ का दाना भूमि में पड़कर मर नहीं जाता, वह अकेला रहता है; परन्तु जब मर जाता है, तो बहुत फल लाता है।

यूहन्ना 12:23-24

यीशु ने स्वयं को वह बीज – स्पाइका – घोषित किया जो हमारे – ‘अनेक बीज’ के लिए एक महान जय को प्राप्त करेगा। कुँवारी का यह ‘बीज’ एक विशेष समय अर्थात् ‘घड़ी’ = ‘होरो’ पर हमारे बीच में आया था। वह किसी भी घड़ी में नहीं अपितु एक ‘निश्चित घड़ी’ में हमारे बीच में आया था। उसने ऐसा इसलिए कहा ताकि हम उस घड़ी को चिह्नित (स्कोपस) करें और कहानी को उसके द्वारा निर्धारित राशिफल को पढ़कर समझ सकें।

आपके द्वारा कन्या राशि को पढ़ना

इस पर आधारित राशिफल का पठ्न यहाँ दिया गया है:

सावधान रहें कि यीशु द्वारा घोषित उस ‘घड़ी’ को चूक न जाएँ क्योंकि आप हर दिन महत्वहीन चीजों का पीछा करने में व्यस्त हैं। उसके कारण, कई लोग ‘अनेक बीज’ बनने से चूक जाएंगे। जीवन रहस्यों से भरा हुआ है, परन्तु शाश्वत जीवन और सच्ची सम्पत्ति की कुँजी अपने लिए ‘अनेक बीज’ के रहस्य को खोलना है। प्रतिदिन सृष्टिकर्ता से कहें कि वह आपको समझने के लिए मार्गदर्शन दे। चूँकि उसने कन्या राशि के तारों के साथ-साथ अपने लिखित दस्तावेज के ऊपर अपने हस्ताक्षर किए हैं, इसलिए यदि आप उससे माँगे, खटखटाएँ, और इसकी खोज करें तो वह आपको गूढ़ ज्ञान प्रदान करेगा। एक तरह से, इसके लिए कन्या राशि के गुण जिज्ञासा और उत्तर खोजने की उत्सुकता वाले हैं। यदि ये लक्षण आपको चिह्नित करते हैं तो कन्या राशि के बारे में और अधिक जानकारी प्राप्त करके इसे अपने जीवन में लागू करें।

राशि चक्र की कहानी में आगे बढ़ना और कन्या राशि की गहराई में उतरना

तुला राशिफल के साथ प्राचीन राशि चक्र की कहानी जारी रखें। इस मूल राशि चक्र के आधार को समझने के लिए प्राचीन ज्योतिष विज्ञान को देखें

कन्या राशि चक्र से सम्बन्धित बातों को गहराई के साथ समझने के लिए निम्निलिखित को देखें

• आरम्भ में ही उद्धार की प्रतिज्ञा का दिया जाना

• बीज संस्कृत वेदों में स्मरण किया गया

• शाखा का चिन्ह

• बीज का जन्म

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *