Your Libra Rasi of the Ancient Zodiac

तुला, जिसे तराजू के नाम से भी जाना जाता है, यह तारा मण्डल में दूसरी राशि है और इसका अर्थ ‘वजन तौलने वाली तराजू’ से है। आज वैदिक ज्योतिष शास्त्र में आपकी कुंडली बनाने के लिए तुला राशि की राशि का उपयोग सम्बन्धों, स्वास्थ्य और धन में सफलता की दिशा में निर्णय लेने के लिए एक मार्गदर्शक के रूप में किया जाता है।

परन्तु क्या यही इसका मूल उपयोग था?

सावधान रहिए! इसका उत्तर देने से आपकी ज्योतिष विद्या अनपेक्षित तरीके से खुल जाएगी – आपको एक अलग ही यात्रा पर ले जाएगी, उस तुलना में जिसका आपने अपनी कुंडली की जाँच करते समय इरादा किया था…

तुला नक्षत्र

Stars of Libra
 तुला राशि का चित्र। क्या आप संतुलन वाले तराजू को देख सकते हैं?

तुला तराजू या संतुलन बनाने वाले तारों का एक तारा मण्डल है। यहाँ तुला राशि के तारों का एक चित्र दिया गया है। क्या आप तारों के इस चित्र में ‘वजन तौलने वाले तराजू’ को देख सकते हैं?

Libra with connecting lines
रेखाओं से जुड़े हुए तारों वाला तुला नक्षत्र

यहाँ तक ​​​​कि जब हम ‘तुला’ राशि के तारों को रेखाओं से जोड़ते हैं, तब भी ‘तराजू’ ही इसकी एकमात्र संभावित व्याख्या नहीं है। परन्तु तराजू से तौलने वाला यह चिन्ह मानव इतिहास को हम जहाँ तक जानते हैं, उसमें सिंह राशि वहाँ तक वापस चली जाती है।

यहाँ 2000 साल से अधिक पुराने मिस्र के डेंडेरा मन्दिर में इस राशि चक्र का एक चित्र दिया गया है, जिसमें तुला राशि के तराजू पर लाल रंग से गोला लगाया हुआ है।

मिस्र के प्राचीन डेंडेरा राशि चक्र में तुला राशि

यहाँ नीचे राष्ट्रीय भूगौलिक राशि चक्र का तारों वाला एक आरेख दिया गया है, जिसमें उत्तरी गोलार्ध में तुला राशि को दिखाया गया है। त्रिभुज एक तराजू की तरह बिल्कुल भी नहीं दिखता है।

राष्ट्रीय भूगौलिक राशि चक्र का तारों वाला आरेख जिसमें तुला पर गोला लगाया हुआ है

इसका अर्थ यह है कि तौलने वाले तराजू का विचार पहले आया, यह विचार तुला राशि के तारों को देखकर नहीं आया। तब आरम्भिक ज्योतिषियों ने याद को बनाए रखने के लिए आवर्ती संकेत के रूप में तुला का चित्र बनाने के लिए इस विचार को तारों पर गढ़ दिया। हमारे पूर्वज अपने बच्चों को तुला राशि की ओर इशारा कर सकते थे और उन्हें तराजू अर्थात तुला से जुड़ी कहानी बता सकते थे। यह इसका मूल ज्योतिषीय उद्देश्य था जैसा कि हम यहाँ देखते हैं। परन्तु तौलने वाले तराजू का विचार सबसे पहले किसने रखा था?

राशि चक्र के लेखक

हमने देखा कि अब तक की लिखी गई सबसे पुरानी पुस्तकों में से एक अय्यूब थी और उसने पुष्टि की है कि राशि चक्रों के संकेत परमेश्वर द्वारा बनाए गए थे:

वह सप्‍तर्षि, मृगशिरा और कचपचिया और दक्षिण के नक्षत्रों का बनानेवाला है।

अय्यूब 9:9

पहली सदी के इतिहासकार जोसीफुस ने कहा था कि पहले मनु की सन्तान, जिसे बाइबल आदम कहती है, ने एक कहानी का निर्माण करते हुए राशि चक्रों को निर्मित किया था। उन्होंने सबसे पहले तौलने वाले तराजू का विचार किया और उस विचार को तारों के विद्यमान चित्र पद्धित पर गढ़ दिया। हमने देखा कि कैसे कन्या ने कहानी आरम्भ की और अब यह तुला (तराजू) के साथ आगे बढ़ती है

प्राचीन राशि चक्र में तुला राशिफल

तुला इस कहानी का दूसरा अध्याय है और हमारे लिए रात्रि के आकाश में एक और चिन्ह को चित्रित करता है। जिसमें हम न्याय के चिन्ह को देखते हैं। तुला राशि के ये आलौकिक तराजू हमारे लिए धार्मिकता, न्याय, व्यवस्था, सरकार और परमेश्वर के राज्य के शासन की संस्थाओं को दर्शाता है। तुला हमारे सामने अनन्तकालीन न्याय, हमारे पाप के कामों और छुटकारे के मूल्य को ले आता है।

दुर्भाग्य से कहना होगा कि दिया गया निर्णय हमारे अनुकूल नहीं है। आकाशीय संतुलन की ऊपरी भुजा में सबसे चमकीला तारा पाया जाता है – जो यह दर्शाता है कि हमारे अच्छे कर्मों का संतुलन हल्का और अपर्याप्त है। भजन संहिता ने भी यही निर्णय दिया है।

सचमुच नीच लोग तो अस्थाई, और बड़े लोग मिथ्या ही हैं; तौल में वे हलके निकलते हैं; वे सब के सब साँस से भी हलके हैं।

भजन संहिता 62:9

इस तरह तुला राशि का ज्योतिषीय चिन्ह हमें स्मरण दिलाता है कि हमारे कामों का संतुलन अपर्याप्त है। परमेश्वर के राज्य के न्याय में, हम सभी के अच्छे कामों का संतुलन पाया जाता है, परन्तु जिनका वजन केवल एक सांस के बराबर – कम और अपर्याप्त होता है।

परन्तु यह निराशाजनक नहीं है। जैसा कि ऋण अदायगी और दायित्वों के विषयों में होता है, एक मूल्य है, जो हमारे गुणों की कमी को ढक सकता है। परन्तु इस अदा करना आसान नहीं है। जैसा कि भजन सहिंता घोषणा करता है:

क्योंकि उनके प्राण की छुड़ौती भारी है वह अन्त तक कभी न चुका सकेंगे।

भजन संहिता 49:8

तुला राशि की कुंडली हमें दिखाती है कि हम इस मुक्तिदाता को कैसे जान सकते हैं जो हमारे दायित्वों के मूल्य को अदा कर सकता है।

प्राचीन तुला राशिफल

चूंकि राशिफल यूनानी भाषा के शब्द ‘होरो’ (घड़ी) से आया है और भविष्यद्वाणियाँ हमारे लिए महत्वपूर्ण घड़ियों को चिह्नित करती हैं, इसलिए हम तुला से सम्बन्धित ‘घड़ी’ को नोट कर सकते हैं। तुला राशि को कुछ इस तरह से पढ़ा जाता है:

4परन्तु जब समय पूरा हुआ, तो परमेश्‍वर ने अपने पुत्र को भेजा जो स्त्री से जन्मा, और व्यवस्था के अधीन उत्पन्न हुआ, 5ताकि व्यवस्था के अधीनों को मोल लेकर छुड़ा ले, और हम को लेपालक होने का पद मिले।

गलातियों 4:4-5

यह बताते हुए कि ‘जब समय पूरा हुआ’ सुसमाचार हमारे लिए एक विशेष ‘घड़ी’ अर्थात् समय को चिह्नित करते हैं। यह समय हमारे जन्म के समय पर नहीं अपितु समय के आरम्भ में ठहराए गए समय या घड़ी पर आधारित है। यह कहते हुए कि यीशु ‘एक स्त्री से जन्मा’, यह कन्या राशि और उसके वंश की कुंडली को दर्शाता है।

वह कैसे आया?

वह ‘व्यवस्था के अधीन’ होकर आया था। इस तरह वह तुला राशि के तराजू के नीचे आ गया।

वह क्यों आया?

वह हमें ‘छुड़ाने’ आया था जो ‘व्यवस्था के अधीन’ – तुला राशि के तराजू अधीन थे।। ताकि वह हम में से उन लोगों को छुड़ा सके जो अपने कामों को तराजू के पलड़े में कम वजन वाला पाते हैं। इसके बाद ‘लेपालक होने’ का वायदा किया जाता है।

आपकी तुला राशि को पढ़ना

आज के दिनों में आप तुला राशिफल को पढ़कर निम्न प्रकार से इसे अपने जीवन में लागू कर सकते हैं।

तुला हमें याद दिलाती है कि धन की आपकी खोज आसानी से लालच बन सकती है, सम्बन्धों की आपकी खोज आपको शीघ्र ही दूसरों को उपयोग करके उन्हें फेंकने के रूप में पेश कर सकती है, और जब आप आनन्द की खोज करते हैं तो आपके द्वारा लोगों को पैरों के नीचे रौंदने की संभावना बन सकती है। तुला हमें बताती है कि ऐसे लक्षण धार्मिकता के पैमानों के अनुकूल नहीं हैं। जो कुछ आप जीवन में कर रहे हैं, उसकी जाँच कर लें। सावधान रहें क्योंकि तुला हमें चेतावनी देती है कि परमेश्वर हर काम का न्याय करेगा, जिसमें हर छिपी हुई चीज भी शामिल है।

यदि उस दिन आपके काम तराजू के पलड़े में हल्के वजन वाले निकले तो आपको एक मुक्तिदाता की आवश्यकता होगी। अभी अपने सभी विकल्पों को परख लें परन्तु याद रखें कि कन्या की सन्तान इसलिए आई ताकि वह आपको छुड़ा सके। अपने जीवन में सही और गलत को समझने के लिए अपनी परमेश्वर-प्रदत्त बुद्धि का उपयोग करें। तुला राशिफल के अध्ययन में ‘लेपालकपन’ अर्थात् गोद लिए जाने का क्या अर्थ है, यह इस बिंदु पर स्पष्ट नहीं हो सकता है, परन्तु यदि आप रोजाना पूछताछ जारी रखते हैं, खटखटाते और खोज करते हैं, तो वह आपका मार्गदर्शन करेगा। ऐसा आपके पूरे सप्ताह में किसी भी दिन किसी भी समय किया जा सकता है।

तुला और वृश्चिक

मानवीय इतिहास की शुरुआत के बाद से तुला का चित्र बदल गया है। आरम्भिक ज्योतिषीय चित्रों और तुला राशि के तारों को दिए गए नामों में हम देखते हैं कि वृश्चिक राशि के पंजे तुला राशि को पकड़ लेते हैं। उदाहरण के लिए, सबसे चमकीला तारा ज़ुबेनेश्माली, अरबी वाक्यांश अल-ज़ुबन अल-शमालीय्या से आया है, जिसका अर्थ “उत्तरी पंजे” से है। तुला राशि का दूसरा सबसे चमकीला तारा, ज़ुबेनेलगेनुबी, अरबी वाक्यांश अल-ज़ुबान अल-जानूबीय से लिया गया है, जिसका अर्थ “दक्षिणी पंजे” से है। वृश्चिक राशि के दो पंजे तुला राशि को पकड़ रहे हैं। इससे दो विरोधियों के बीच चल रहे एक बड़े संघर्ष का पता चलता है।

तुला राशि और राशिफल से सम्बन्धित बातों को गहराई से समझने के लिए यहाँ पढ़ें:

यह संघर्ष कैसे आगे बढ़ता है, इसे हम वृश्चिक राशि में देखते हैं। प्राचीन ज्योतिष विज्ञान की मुख्य बातों को यहाँ से जानें। इसकी शुरुआत को कन्या राशि से आरम्भ कीजिए।

परन्तु तुला राशि की लिखित कहानी की गहराई में जाने के लिए:

• कुंभ मेला क्या प्रगट करता है

• दस आज्ञाएँ: कलियुग के लिए हमारी जाँच

• पृथ्वी-के-मध्य में रहने वाला ओर्क की तरह… भ्रष्ट

• बलिदान की विश्वव्यापी आवश्यकता

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *