Yīśu āntarik śuddhatā par śikṣā dētē hain

Dhārmik anuṣṭhāan sambandhī śuddhatā kitanī āvaśyak hai? Suddhatā kō banāē rakhanē kē liē aur aśuddhatā sē bachanē kē liē kyā kiyā jāē? Ham mēn sē bahut sē lōg aśuddhatā kē vibhinn rūpōn sē bachanē yā isē kam karanē kē liē kaḍaā pariśram karatē hain, jaisē chuāchūt, arthāt ēk dūsarē kī aśuddhatā sē bachanē kē liē lōgōn kē bīch mēn āpasī sparś sambandhī sahamati. Kaī lōg aśuddh bhōjan kō bhī khānē sē bachatē hain, arthāt apavitratā kē ēk aisē rūp sē jisamēn hamārē dvārā khāē jānē vālē bhōjan sē aśuddhatā utpann hōtī hai, kyōnki is bhōjan kō kisī aśuddh vyakti dvārā banāyā gayā hai.

Suddhatā kō banāē rakhanē vālē dhārmik kāry

Jab āap is par chintan karatē hain, tō ham pūrvadhāraṇāōn kā ṭhīk sē pālan karanē kē liē bahut adhik prayāas kar sakatē hain. Ek bacchē kē janm kē bāad, māa kō sūtak sambandhī nirdhārit niyamōn kā pālan karanā cāhiē, jisamēn lambī avadhi kē liē sāmājik dūrī banāē rakhanā śāmil hai. Janm kē bāad lagabhag ēk mahīnē tak kuch paramparāōn mēn jacchā (naī māa) kō aśuddh mānā jātā hai. Snān aur māliś kō śāmil karatī huī kēval ēk śuddhikaraṇ prakriyā (chaṭhī) kē mādhyam sē hī ēk māa kō phir sē śuddh mānā jātā hai. Bacchē kō janm dēnē kē atirikt, ēk strī kē māsik dharm kī avadhi kō sāmāny rūp sē usē aśuddh banānē kē rūp mēn dēkhā jātā hai, isaliē usē anuṣṭhāan śuddhikaraṇ kē mādhyam sē bhī śuddhatā prāpt karanī hōtī hai. Vivāah yā agni bhēnṭ (hōm yā yagy) sē pahalē, śuddhatā kō banāē rakhanē kē liē kaī lōg puṇyavachanam nāam sē pukārē jānē vālī anuṣṭhāan sambandhī śuddhi kō karatē hain, jisamēn mantrōn kā jāap kiyā jātā hai aur lōgōn kē ūpar jal chiḍakā jātā hai.

Chāhē hamārē dvārā khāyā jānē vālā bhōjan hō, yā phir jin chījōn yā lōgōn kō ham sparśa karatē hain, yā hamārī śārīrik gatividhiyāan, aisē kaī tarīkē hain, jinasē ham aśuddh hō sakatē hain. Isaliē kaī lōag śuddhatā kē liē kaḍaā pariśram karatē hain. Yahī kāraṇ hai ki jīvan mēn sahī tarīkē sē pragati karanē kē liē sanskāar (yā prathā) kē rūp mēn jānā jānē vālē śuddhatā sambandhī anuṣṭhāan sanskārōn kō diyā gayā hai.

Gautam dharmasūtr

Gautama dharmasūtr sabasē purānē sanskṛt dharmasūtrōn mēn sē ēka hai. Yah 40 bāharī sanskārōn kō sūchībaddh karatā hai (jaisē janm kē bāad anuṣṭhāan sambandhī śuddhatā) parantu sāth hī aāṭh āntarik  sanskāar kō bhī śāmil karatā hai jisasē ki ham pavitratā kō banāē rakha sakēn. Yē nimn hain:

Sabhī prāṇiyōn kē prati karuṇā, dhairy, īrṣyā kī kamī, pavitratā, śānti, ēk sakārātmak svabhāav, udāratā, aur sahanaśīlatā.

सभी प्राणियों के प्रति करुणा, धैर्य, ईर्ष्या की कमी, शुद्धता, शांति, एक सकारात्मक स्वभाव, उदारता, और पूर्णता की कमी।

Gautama dharma-sūtr 8:23

Suddhatā aur aśuddhatā kē viṣaya mēn Yīśu

Hamanē dēkhā ki kaisē Yīśu kē śabdōn mēn adhikāar kē sāth lōgōn kō changā karanē aura prakṛti kō ādēś dēnē kī sāmarthya thī. Yīśu nē hamēn apanē bhītar  kī śuddhatā kē bārē mēn sōchanē kē liē kahā, na ki kēval bāharī kē bārē mēn. Yadyapi ham kēval any lōgōn kī bāharī śuddhatā kō dēkh sakatē hain, parantu Paramēśvar kē liē yah bhinn bāat hōtī hai – vah bhītar kō bhī dēkhatā hai. Jab Isrāēl kē kaī rājāōn mēn sē ēk nē bāharī śuddhatā kō hī banāē rakhā, parantu usanē apanē man kō śuddh nahīn rakhā, tō usakē guru nē usē yah sandēś diyā hai, jō Bāibal mēn lipibaddh hai:

9 देख, यहोवा की दृष्टि सारी पृथ्वी पर इसलिये फिरती रहती है कि जिनका मन उसकी ओर निष्कपट रहता है, उनकी सहायता में वह अपना सामर्थ दिखाए। तूने यह काम मूर्खता से किया है, इसलिये अब से तू लड़ाइयों में फंसा रहेगा।

2 Itihās 16:9a

Aantarik śuddhatā kā hamārē ‘manōn’ sē lēnā-dēnā hai – jisamēn ‘āpā’ jō sōchatā hai, mahasūs karatā hai, nirṇay lētā hai, adhīn hōtā hai yā avagya karatā hai, aur jībh kō niyantrit karatā hai. kēval āntarik śuddhatā kē sāth hī hamārē sanskāar prabhāvī hōngē. Isaliē Yīśu nē apanī śikṣā mēn bāharī śuddhatā kī tulanā āntarik kē sāth karatē huē āntarik śuddhatā par jōr diyā. Yahān par āntarik arthāt bhītarī śuddhatā kē bārē mēn usakī śikṣāōn ko susamāchāar mēn lipibaddh kiyā gayā hai:

37 जब वह बातें कर रहा था, तो किसी फरीसी ने उस से बिनती की, कि मेरे यहां भेजन कर; और वह भीतर जाकर भोजन करने बैठा।
38 फरीसी ने यह देखकर अचम्भा दिया कि उस ने भोजन करने से पहिले स्नान नहीं किया।
39 प्रभु ने उस से कहा, हे फरीसियों, तुम कटोरे और थाली को ऊपर ऊपर तो मांजते हो, परन्तु तुम्हारे भीतर अन्धेर और दुष्टता भरी है।
40 हे निर्बुद्धियों, जिस ने बाहर का भाग बनाया, क्या उस ने भीतर का भाग नहीं बनाया?
41 परन्तु हां, भीतरवाली वस्तुओं को दान कर दो, तो देखो, सब कुछ तुम्हारे लिये शुद्ध हो जाएगा॥
42 पर हे फरीसियों, तुम पर हाय ! तुम पोदीने और सुदाब का, और सब भांति के साग-पात का दसवां अंश देते हो, परन्तु न्याय को और परमेश्वर के प्रेम को टाल देते हो: चाहिए तो था कि इन्हें भी करते रहते और उन्हें भी न छोड़ते।
43 हे फरीसियों, तुम पर हाय ! तुम आराधनालयों में मुख्य मुख्य आसन और बाजारों में नमस्कार चाहते हो।
44 हाय तुम पर ! क्योंकि तुम उन छिपी कब्रों के समान हो, जिन पर लोग चलते हैं, परन्तु नहीं जानते॥

Lūkā 11:37-44

52 हाय तुम व्यवस्थापकों पर ! कि तुम ने ज्ञान की कुंजी ले तो ली, परन्तु तुम ने आप ही प्रवेश नहीं किया, और प्रवेश करने वालों को भी रोक दिया।

Lūkā 11:52

(‘Pharīsī’ Yahūdī śikṣak thē, jō Svāmiyōn yā Panḍitōn kē jaisē thē. Yīśu nē Paramēśvar kō ‘dasavān anś’ dēnē kā ullēkh kiyā hai. Yah dhārmik bhikṣā dēnē kē jaisā thā.

Yahūdī vyavasthā mēn ēk śav kō chūnā aśuddhatā thī. Jab Yīśu nē kahā ki vē ‘chipī huī kabrōn’ kē ūpar chalatē hain, tō usakā arth yah thā ki vē unakē binā jānatē huē bhī aśuddh thē, kyōnki vē āntarik śuddhatā kī upēkṣā kar rahē thē. Bhītarī aśuddhatā kī upēkṣā karanā hamēn ēk śav kō chūnē jaisā aśuddh banā dētī hai.

Man  dhārmik rūp sē śuddh vyakti kō aśuddh karatā hai

Nimnalikhit śikṣāōn mēn, Yīśu 750 īsā pūrv mēn diē huē bhaviṣyadvaktā Yaśāyāha kē uddharaṇ kō upōyag karatē hain. 

https://en.satyavedapusthakan.net/wp-content/uploads/sites/3/2017/10/isaiah-sign-of-the-branch-timeline--1024x576.jpg

Aitihāsik samay-sīmā mēn Rṣi Yaśāyāah aur any Ibrānī Rṣi (bhaviṣyadvaktā)

ब यरूशलेम से कितने फरीसी और शास्त्री यीशु के पास आकर कहने लगे।
2 तेरे चेले पुरनियों की रीतों को क्यों टालते हैं, कि बिना हाथ धोए रोटी खाते हैं?
3 उस ने उन को उत्तर दिया, कि तुम भी अपनी रीतों के कारण क्यों परमेश्वर की आज्ञा टालते हो?
4 क्योंकि परमेश्वर ने कहा था, कि अपने पिता और अपनी माता का आदर करना: और जो कोई पिता या माता को बुरा कहे, वह मार डाला जाए।
5 पर तुम कहते हो, कि यदि कोई अपने पिता या माता से कहे, कि जो कुछ तुझे मुझ से लाभ पहुंच सकता था, वह परमेश्वर को भेंट चढ़ाई जा चुकी।
6 तो वह अपने पिता का आदर न करे, सो तुम ने अपनी रीतों के कारण परमेश्वर का वचन टाल दिया।
7 हे कपटियों, यशायाह ने तुम्हारे विषय में यह भविष्यद्वाणी ठीक की।
8 कि ये लोग होठों से तो मेरा आदर करते हैं, पर उन का मन मुझ से दूर रहता है।
9 और ये व्यर्थ मेरी उपासना करते हैं, क्योंकि मनुष्यों की विधियों को धर्मोपदेश करके सिखाते हैं।
10 और उस ने लोगों को अपने पास बुलाकर उन से कहा, सुनो; और समझो।
11 जो मुंह में जाता है, वह मनुष्य को अशुद्ध नहीं करता, पर जो मुंह से निकलता है, वही मनुष्य को अशुद्ध करता है।
12 तब चेलों ने आकर उस से कहा, क्या तू जानता है कि फरीसियों ने यह वचन सुनकर ठोकर खाई?
13 उस ने उत्तर दिया, हर पौधा जो मेरे स्वर्गीय पिता ने नहीं लगाया, उखाड़ा जाएगा।
14 उन को जाने दो; वे अन्धे मार्ग दिखाने वाले हैं: और अन्धा यदि अन्धे को मार्ग दिखाए, तो दोनों गड़हे में गिर पड़ेंगे।
15 यह सुनकर, पतरस ने उस से कहा, यह दृष्टान्त हमें समझा दे।
16 उस ने कहा, क्या तुम भी अब तक ना समझ हो?
17 क्या नहीं समझते, कि जो कुछ मुंह में जाता, वह पेट में पड़ता है, और सण्डास में निकल जाता है?
18 पर जो कुछ मुंह से निकलता है, वह मन से निकलता है, और वही मनुष्य को अशुद्ध करता है।
19 क्योंकि कुचिन्ता, हत्या, पर स्त्रीगमन, व्यभिचार, चोरी, झूठी गवाही और निन्दा मन ही से निकलतीं है।
20 यही हैं जो मनुष्य को अशुद्ध करती हैं, परन्तु हाथ बिना धोए भोजन करना मनुष्य को अशुद्ध नहीं करता॥
21 यीशु वहां से निकलकर, सूर और सैदा के देशों की ओर चला गया।
22 और देखो, उस देश से एक कनानी स्त्री निकली, और चिल्लाकर कहने लगी; हे प्रभु दाऊद के सन्तान, मुझ पर दया कर, मेरी बेटी को दुष्टात्मा बहुत सता रहा है।
23 पर उस ने उसे कुछ उत्तर न दिया, और उसके चेलों ने आकर उस से बिनती कर कहा; इसे विदा कर; क्योंकि वह हमारे पीछे चिल्लाती आती है।
24 उस ने उत्तर दिया, कि इस्राएल के घराने की खोई हुई भेड़ों को छोड़ मैं किसी के पास नहीं भेजा गया।
25 पर वह आई, और उसे प्रणाम करके कहने लगी; हे प्रभु, मेरी सहायता कर।

Mattī 15:1-20

Jō hamārē man sē bāhar nikalatā hai vahī hamēn aśuddh banātā hai. Yīśu dvārā dī gaī aśuddh vichārōn kī sūchī Gautam dharmasūtr mēn sūchībaddh śuddhatā sambandhī vichārōn kī sūchī kē lagabhag ṭhīk viparīt hai. Is prakāar vē ēk jaisī hī śikṣā dētē hain.

23 हे कपटी शास्त्रियों, और फरीसियों, तुम पर हाय; तुम पोदीने और सौंफ और जीरे का दसवां अंश देते हो, परन्तु तुम ने व्यवस्था की गम्भीर बातों को अर्थात न्याय, और दया, और विश्वास को छोड़ दिया है; चाहिये था कि इन्हें भी करते रहते, और उन्हें भी न छोड़ते।
24 हे अन्धे अगुवों, तुम मच्छर को तो छान डालते हो, परन्तु ऊंट को निगल जाते हो।
25 हे कपटी शास्त्रियों, और फरीसियों, तुम पर हाय, तुम कटोरे और थाली को ऊपर ऊपर से तो मांजते हो परन्तु वे भीतर अन्धेर असंयम से भरे हुए हैं।
26 हे अन्धे फरीसी, पहिले कटोरे और थाली को भीतर से मांज कि वे बाहर से भी स्वच्छ हों॥
27 हे कपटी शास्त्रियों, और फरीसियों, तुम पर हाय; तुम चूना फिरी हुई कब्रों के समान हो जो ऊपर से तो सुन्दर दिखाई देती हैं, परन्तु भीतर मुर्दों की हिड्डयों और सब प्रकार की मलिनता से भरी हैं।
28 इसी रीति से तुम भी ऊपर से मनुष्यों को धर्मी दिखाई देते हो, परन्तु भीतर कपट और अधर्म से भरे हुए हो॥

Mattī 23:23-28

Aap jis bhī pyālē mēn pītē hain, āap usē kēval bāhar sē hī nahīn, apitu bhītar sē bhī sāph karanā chāhēngē. Ham is dṛṣṭānt mēn pyālē hain. Paramēśvar bhī yahī chāhatā hai ki ham kēval bāhar sē hī nahīn, apitu bhītar kī bhī saphāī karēn.

Yīśu vah kar rahā hai jisē ham sabhī nē dēkhā hai. Bāhar kī ōr saphāī karanā dhārmik vidhiyōn mēn atyādhik sāmāny bāat hō sakatī hai, parantu kaī lōg abhī bhī bhītar sē lālach aur bhōg-vilās sē bharē huē hōtē hain – yahān tak ki vē lōg bhī jō dhārmik rūp sē mahatvapūrṇ hōtē hain. Antarik śuddhatā prāpt karanā āvaśyak hai – parantu yah bahut kaṭhin hai.

Yīśu nē Gautam dharmsūtr kē jaisā hī bahut kucha kī śikṣā dī hai, jō āṭh āntarik sanskārōn kō sūchībaddh karanē kē bāad aisē batātā hai:

Hō sakatā hai ki ēk vyakti nē sabhī chālīs sanskāar pūrē kiē hain, parantu usamēn in āṭh guṇōn kā abhāav hai, usakā Brahman kē sāth ēkākāar nahīn hō sakatā hai.

Hō sakatā hai ki ēk vyakti nē kēval chālīs sanskārōn mēn sē kuch kō pūrā kiyā hō, parantu usamēn yē āṭh guṇōn hōn, tab tō usakā Brahman kē sāth ēkākāar hōnā suniśchit hai.

Gautam dharm-sūtr 8:24-25

Isaliē vichāar-vimarś kē liē viṣay yah uṭh khaḍaā hōtā hai. Ham kaisē apanē manōn kō śuddh karatē hain tāki ham Brahman kē sāth svarg kē rājy mēn pravēś kar sakēn? Ham dvij kē bārē mēn jānanē kē liē susamāchāar kē adhyayan mēn āgē baḍhatē rahēngē.