Yīśu Masīh kā janm: Devon dvārā ghoṣit aur Burāī dvārā khatare men paḍaā

Yīśu (Yesu Satsang) ke janm ke kāraṇ saṃbhavataḥ sabase vyāpak rūp se manāyā jāne vālā vaiśvik avakāś – krisamas kā tyohār hai. Yadyapi kaī log krisamas ke bāre men jānate hain, tathāpi bahut kam hī log Yīśu ke janm ko susamāchāron men se jānate hain. Yahān dī gaī janm kī kahānī ādhunik dinon kī santā klaj ke sāth manāī jāne vālī krisamas aur upahāron se kahīn adhik uttam hai, aur isalie yah jānane yogya hai.

Bāibal men Yīśu ke janm ke bāre men jānane kā ek upayogī tarīkā yah hai ki isakī tulanā Kṛṣṇ ke janm ke sātha kī jāe kyonki in dono kahāniyon men kaī samānatāen pāī jātī hain.

Kṛṣṇ kā janm

Vibhinn śāstr Kṛṣṇ ke janm kā bhinn tarah se vivaraṇ dete hain. Harivanśapurāṇ men, aise milatā hai ki Viṣṇu ko patā chalatā hai ki rākṣas Kālanemi ne duṣṭ Rājā Kans ke rūp men phir janm liyā thā. Kans ko naṣṭ karane kā nirṇay lete hue, Viṣṇu ne Kṛṣṇ ke rūp men Vāsudev (eka pūrv Rṣi jisane gvāle ke rūp men janm liyā thā) aur unakī patnī Devakī ke ghar men janm lene ke lie avatār liyā.

Pṛthvī para, Kans-Kṛṣṇ kī laḍaāī kā ārambh bhaviṣyadvāṇī dvārā huā thā, jab ākāś se āī ek āvāj ne Kans ko yah batāne ke lie ghoṣaṇā kī ki Devakī kā putr Kans ko mār degā. Isalie Kans devakī kī santān se bhayabhīt thā, aur isalie usane use aur usake parivār ko kaid karate hue, usake bacchon kī hatyā kar dī kyonki vah Viṣṇu ke avatār ko kisī bhī paristhiti men bachane nahīn denā chāhatā thā.

Tathāpi, Kṛṣṇ kā janm Devakī se hī huā aur, Vaiṣṇav bhakton ke anusār, usake janm ke turant bād samṛddhi aur śānti kā vātāvaraṇ thā, kyonki grah usake janm ke lie svachālit rūp se āpas men samāyojit ho gae the.

Purāṇ tab isake paśchāt navajāt śiśu ko Kans dvārā naṣṭ hone se bachāne ke lie Vāsudev (Kṛṣṇ ke sānsārik pitā) ke bhāgane kā varṇan karate hain. Us jel ko choḍ kar jāte hue jahān vah aur Devakī duṣṭ rājā dvārā kaid kar die gae the, Vāsudev ek nadī ko pār karate hue bacche ke sāth bach jāte hain. Bacche ke sāth ek gānv men surakṣit pahunchane par bālak Kṛṣṇ ko ek sthānīy navajāt bālikā ke sāth badal diyā jātā hai. Kans ko bād men yahī badalī huī bacchī milatī hai aur vah use mār ḍālatā hai. Siśuon kī adalā-badalī se anajān, Nand aur Yaśodā (bacchī ke mātā-pitā) Kṛṣṇ ko apane svayan kā mānate hue ek gvāle ke rūp men pālan-poṣaṇ karate hain. Kṛṣṇ ke janm ke din ko Kṛṣṇ Janmāṣṭamī ke rūp men manāyā jātā hai.

Ibrānī Vedon ne Yīśu ke janm kī bhaviṣyadvāṇī kī

Jaisā ki Kans ko bhaviṣyadvāṇī kī gaī thī ki Devakī kā ek putr use mār ḍālegā, ṭhīk vaise hī Ibrānī Santon ko āne vāle Masīhā/Masīh ke bāre men bhaviṣyadvāṇiyān prāpta huīn thi. Yadyapi, ye bhaviṣyadvāṇiyān Yīśu ke janm se saikaḍaon varṣon pahale kaī bhaviṣyadvaktāon dvārā prāpt huīn aur likhī gaī thīn. Nīche dī gaī samay-rekhā Ibrānī Vedon ke kaī bhaviṣyadvaktāon ko yah ingit karatī huī dikhātī hai ki unakī bhaviṣyadvāṇiyon ko un par prakāśit kiyā gayā thā aur tatpaśchāt unhen lipibaddh kiyā gayā thā. Unhonne ek mṛt ṭhūnṭh se utpann hone vālī ek śākhā ke rūp men ek āne vāle vyakti ko pahale se hī dekh liyā thā aur unhonne usake nām – Yīśu kī bhaviṣyadvāṇī kī.

https://en.satyavedapusthakan.net/wp-content/uploads/sites/3/2017/10/isaiah-sign-of-the-branch-timeline--e1509057060208.jpg

Itihās men Yaśāyāh aur any Ibrānī Rṣi (bhaviṣyadvaktā). Yaśāyāh ke samay men hī milane vāle Mīkā par bhī dhyāna den

Yaśāyāh ne is āne vāle vyakti ke janm kī prakṛti ke viṣay men ek aur ullekhanīy bhaviṣyadvāṇī lipibaddh kī hai. Jaisā ki likhā gayā hai:

14 इस कारण प्रभु आप ही तुम को एक चिन्ह देगा। सुनो, एक कुमारी गर्भवती होगी और पुत्र जनेगी, और उसका नाम इम्मानूएल रखेगी।

Yaśāyāh 7:14

Is kāraṇ prabhu āp hī tum ko ek cihn degā. Suno, ek  ‘kumārī ’ garbhavatī hogī aur Putr janegī, aur usakā nām ‘Immānuel ’ rakhegī.

Isane prāchīn Ibrānī logon ko ulajhan men ḍāl diyā. Ek kunvārī ke pās putr kaise ho sakatā hai? Yah asanbhav thā. Yadyapi bhaviṣyadvāṇī kī gaī thī ki yah Putr Immānuel hogā, jisakā arth hai ki ‘Eśvar hamāre sātha’. Yadi Param Pradhān Parameśvar, jo isa sansār kā rachiyatā hai, ko janm lenā thā, tab to yah sochane yogy viṣay thā. Isalie Ibrānī Vedon kī nakal karane vāle Rṣiyon aur Sāstriyon ne Vedon se bhaviṣyadvāṇī ko haṭāne kā sāhas hī nahīn kiyā, aur yah lekhon men sadiyon se likhe huīn, apanī pūrti kī pratīkṣā kar rahī thīn.

Lagabhag usī samay jab Yaśāyāh ne kunvārī janm kī bhaviṣyadvāṇī kī, ek any bhaviṣyadvaktā Mīkā ne bhī bhaviṣyadvāṇī kī:

2 हे बेतलेहेम एप्राता, यदि तू ऐसा छोटा है कि यहूदा के हजारों में गिना नहीं जाता, तौभी तुझ में से मेरे लिये एक पुरूष निकलेगा, जो इस्राएलियों में प्रभुता करने वाला होगा; और उसका निकलना प्राचीन काल से, वरन अनादि काल से होता आया है।  

Mīkā 5:2

He Baitalaham’ Eprātā, yadi tū aisā choṭā hai ki Yahūdā ke hajaāron men ginā nahīn jātā, taubhī tujh men se mere liye ek Puruṣ nikalegā, jo Isrāeliyon men prabhutā karane vālā hogā; aur usakā nikalanā prāchīnakāla se, varan anādi kāl se hotā āyā hai.

Mahān Rājā Dāūd ke paitṛk śahar Baitalaham se, vah śāsaka āegā, jisakī nikalanā ’prāchīn kāl se’ – usake śārīrik janm se bahut pahale se hotā āyā hai.

Masīh kā janm – Devon dvārā ghoṣit kiyā gayā thā

Saikaḍaon varṣon pahale tak Yahūdī/Ibrāniyon ne in bhaviṣyadvāṇiyon ke pūrā hone kī pratikṣā kī. Kaīyon ne āśā choḍ dī aur any unake bāre men bhūl gae the, parantu bhaviṣyadvāṇiyān āne vāle din kī āśankā ke gavāh ke rūp men mūk banī rahīn. Ant men, lagabhag īsā pūrva 5 men ek viśeṣ svargadūt ek javān strī ke lie ek chaunkāne vāle sandeś ko le āyā. Jaise Kans ne ākāś se ek āvāj sunī thī, ṭhīk vaise hī is strī kī mulākāt svarg se āe ek svargadūt yā dev, Jibrāīl se huī. Susamāchāra lipibaddh karate hain ki:

26 छठवें महीने में परमेश्वर की ओर से जिब्राईल स्वर्गदूत गलील के नासरत नगर में एक कुंवारी के पास भेजा गया।
27 जिस की मंगनी यूसुफ नाम दाऊद के घराने के एक पुरूष से हुई थी: उस कुंवारी का नाम मरियम था।
28 और स्वर्गदूत ने उसके पास भीतर आकर कहा; आनन्द और जय तेरी हो, जिस पर ईश्वर का अनुग्रह हुआ है, प्रभु तेरे साथ है।
29 वह उस वचन से बहुत घबरा गई, और सोचने लगी, कि यह किस प्रकार का अभिवादन है?
30 स्वर्गदूत ने उस से कहा, हे मरियम; भयभीत न हो, क्योंकि परमेश्वर का अनुग्रह तुझ पर हुआ है।
31 और देख, तू गर्भवती होगी, और तेरे एक पुत्र उत्पन्न होगा; तू उसका नाम यीशु रखना।
32 वह महान होगा; और परमप्रधान का पुत्र कहलाएगा; और प्रभु परमेश्वर उसके पिता दाऊद का सिंहासन उस को देगा।
33 और वह याकूब के घराने पर सदा राज्य करेगा; और उसके राज्य का अन्त न होगा।
34 मरियम ने स्वर्गदूत से कहा, यह क्योंकर होगा? मैं तो पुरूष को जानती ही नहीं।
35 स्वर्गदूत ने उस को उत्तर दिया; कि पवित्र आत्मा तुझ पर उतरेगा, और परमप्रधान की सामर्थ तुझ पर छाया करेगी इसलिये वह पवित्र जो उत्पन्न होनेवाला है, परमेश्वर का पुत्र कहलाएगा।
36 और देख, और तेरी कुटुम्बिनी इलीशिबा के भी बुढ़ापे में पुत्र होनेवाला है, यह उसका, जो बांझ कहलाती थी छठवां महीना है।
37 क्योंकि जो वचन परमेश्वर की ओर से होता है वह प्रभावरिहत नहीं होता।
38 मरियम ने कहा, देख, मैं प्रभु की दासी हूं, मुझे तेरे वचन के अनुसार हो: तब स्वर्गदूत उसके पास से चला गया॥

Lūkā 1:26-38

Jibrāīl ke sandeś ke nau mahīnon bād, Yīśu kuvānrī Mariyam se Yaśāyāh kī bhaviṣyadvāṇī ko pūrā karatā huā janm legā. Parantu Mīkā ne bhaviṣyadvāṇī kī thī ki Yīśu kā janm Baitalaham men hogā, jabaki Mariyam to Nāsarat men rahatī thī. Kyā Mīkā kī bhaviṣyadvāṇī viphal ho jāegī? Susamāchār āge batātā hai ki:

न दिनों में औगूस्तुस कैसर की ओर से आज्ञा निकली, कि सारे जगत के लोगों के नाम लिखे जाएं।
2 यह पहिली नाम लिखाई उस समय हुई, जब क्विरिनियुस सूरिया का हाकिम था।
3 और सब लोग नाम लिखवाने के लिये अपने अपने नगर को गए।
4 सो यूसुफ भी इसलिये कि वह दाऊद के घराने और वंश का था, गलील के नासरत नगर से यहूदिया में दाऊद के नगर बैतलहम को गया।
5 कि अपनी मंगेतर मरियम के साथ जो गर्भवती थी नाम लिखवाए।
6 उन के वहां रहते हुए उसके जनने के दिन पूरे हुए।
7 और वह अपना पहिलौठा पुत्र जनी और उसे कपड़े में लपेटकर चरनी में रखा: क्योंकि उन के लिये सराय में जगह न थी।
8 और उस देश में कितने गड़ेरिये थे, जो रात को मैदान में रहकर अपने झुण्ड का पहरा देते थे।
9 और प्रभु का एक दूत उन के पास आ खड़ा हुआ; और प्रभु का तेज उन के चारों ओर चमका, और वे बहुत डर गए।
10 तब स्वर्गदूत ने उन से कहा, मत डरो; क्योंकि देखो मैं तुम्हें बड़े आनन्द का सुसमाचार सुनाता हूं जो सब लोगों के लिये होगा।
11 कि आज दाऊद के नगर में तुम्हारे लिये एक उद्धारकर्ता जन्मा है, और यही मसीह प्रभु है।
12 और इस का तुम्हारे लिये यह पता है, कि तुम एक बालक को कपड़े में लिपटा हुआ और चरनी में पड़ा पाओगे।
13 तब एकाएक उस स्वर्गदूत के साथ स्वर्गदूतों का दल परमेश्वर की स्तुति करते हुए और यह कहते दिखाई दिया।
14 कि आकाश में परमेश्वर की महिमा और पृथ्वी पर उन मनुष्यों में जिनसे वह प्रसन्न है शान्ति हो॥
15 जब स्वर्गदूत उन के पास से स्वर्ग को चले गए, तो गड़ेरियों ने आपस में कहा, आओ, हम बैतलहम जाकर यह बात जो हुई है, और जिसे प्रभु ने हमें बताया है, देखें।
16 और उन्होंने तुरन्त जाकर मरियम और यूसुफ को और चरनी में उस बालक को पड़ा देखा।
17 इन्हें देखकर उन्होंने वह बात जो इस बालक के विषय में उन से कही गई थी, प्रगट की।
18 और सब सुनने वालों ने उन बातों से जो गड़िरयों ने उन से कहीं आश्चर्य किया।
19 परन्तु मरियम ये सब बातें अपने मन में रखकर सोचती रही।
20 और गड़ेरिये जैसा उन से कहा गया था, वैसा ही सब सुनकर और देखकर परमेश्वर की महिमा और स्तुति करते हुए लौट गए॥

Lūkā 2:1-20

Us samay ke sansār kā sabase śaktiśālī vyakti, Roman Samrāṭ ne svayan ek rājakīy ādeś diyā, jisake kāraṇ Mariyam aur Yūsuph Nāsarat se Baitalaham kī or jāne ke lie yātrā par chal paḍae, jo Yīśu ke janm ke ṭhīk pahale tak kī thī. Mīkā kī bhaviṣyadvāṇī bhī pūrī huī.

Kṛṣṇ kī tarah hī ek vinamr charavāhe ke rūp men, Yīśu kā janm dīn avasthā men – ek gauśālā men huā, jahān gāyon ko aur any jānavaron ko rakhā gayā thā, aur use dekhane ke lie dīn charavāhe hī āe. Tathāpi svargadūton yā Devon ne usake janm ke viṣay men gīt gāyā thā.

Duṣṭ kī or se khatare men paḍanā

Kṛṣṇ ke janm ke samay usakā jīvan Rājā Kans kī or se khatare men thā, jo svayan ko usake āgaman se khatarā men paḍaā huā mahasūs karatā thā. Thīk isī tarah, Yīśu ke janm ke samay usakā jīvan sthānīy Rājā Herodes kī or se khatare men paḍ gayā thā. Herodes kisī any Rājā (yahī to ’Masīh kā arth’ hai) kī or se apane śāsan ko khatare men paḍaā huā nahīn dekhn chāhatā thā. Susamāchār vyākhyā karate hain ki:

रोदेस राजा के दिनों में जब यहूदिया के बैतलहम में यीशु का जन्म हुआ, तो देखो, पूर्व से कई ज्योतिषी यरूशलेम में आकर पूछने लगे।
2 कि यहूदियों का राजा जिस का जन्म हुआ है, कहां है? क्योंकि हम ने पूर्व में उसका तारा देखा है और उस को प्रणाम करने आए हैं।
3 यह सुनकर हेरोदेस राजा और उसके साथ सारा यरूशलेम घबरा गया।
4 और उस ने लोगों के सब महायाजकों और शास्त्रियों को इकट्ठे करके उन से पूछा, कि मसीह का जन्म कहाँ होना चाहिए?
5 उन्होंने उस से कहा, यहूदिया के बैतलहम में; क्योंकि भविष्यद्वक्ता के द्वारा यों लिखा है।
6 कि हे बैतलहम, जो यहूदा के देश में है, तू किसी रीति से यहूदा के अधिकारियों में सब से छोटा नहीं; क्योंकि तुझ में से एक अधिपति निकलेगा, जो मेरी प्रजा इस्राएल की रखवाली करेगा।
7 तब हेरोदेस ने ज्योतिषियों को चुपके से बुलाकर उन से पूछा, कि तारा ठीक किस समय दिखाई दिया था।
8 और उस ने यह कहकर उन्हें बैतलहम भेजा, कि जाकर उस बालक के विषय में ठीक ठीक मालूम करो और जब वह मिल जाए तो मुझे समाचार दो ताकि मैं भी आकर उस को प्रणाम करूं।
9 वे राजा की बात सुनकर चले गए, और देखो, जो तारा उन्होंने पूर्व में देखा था, वह उन के आगे आगे चला, और जंहा बालक था, उस जगह के ऊपर पंहुचकर ठहर गया॥
10 उस तारे को देखकर वे अति आनन्दित हुए।
11 और उस घर में पहुंचकर उस बालक को उस की माता मरियम के साथ देखा, और मुंह के बल गिरकर उसे प्रणाम किया; और अपना अपना यैला खोलकर उसे सोना, और लोहबान, और गन्धरस की भेंट चढ़ाई।
12 और स्वप्न में यह चितौनी पाकर कि हेरोदेस के पास फिर न जाना, वे दूसरे मार्ग से होकर अपने देश को चले गए॥
13 उन के चले जाने के बाद देखो, प्रभु के एक दूत ने स्वप्न में यूसुफ को दिखाई देकर कहा, उठ; उस बालक को और उस की माता को लेकर मिस्र देश को भाग जा; और जब तक मैं तुझ से न कहूं, तब तक वहीं रहना; क्योंकि हेरोदेस इस बालक को ढूंढ़ने पर है कि उसे मरवा डाले।
14 वह रात ही को उठकर बालक और उस की माता को लेकर मिस्र को चल दिया।
15 और हेरोदेस के मरने तक वहीं रहा; इसलिये कि वह वचन जो प्रभु ने भविष्यद्वक्ता के द्वारा कहा था कि मैं ने अपने पुत्र को मिस्र से बुलाया पूरा हो।
16 जब हेरोदेस ने यह देखा, कि ज्योतिषियों ने मेरे साथ ठट्ठा किया है, तब वह क्रोध से भर गया; और लोगों को भेजकर ज्योतिषियों से ठीक ठीक पूछे हुए समय के अनुसार बैतलहम और उसके आस पास के सब लड़कों को जो दो वर्ष के, वा उस से छोटे थे, मरवा डाला।
17 तब जो वचन यिर्मयाह भविष्यद्वक्ता के द्वारा कहा गया था, वह पूरा हुआ,
18 कि रामाह में एक करूण-नाद सुनाई दिया, रोना और बड़ा विलाप, राहेल अपने बालकों के लिये रो रही थी, और शान्त होना न चाहती थी, क्योंकि वे हैं नहीं॥

Mattī 2:1-18

Yīśu aur Kṛṣṇ ke janm men bahut sī bāten sāmāny milatī hai. Kṛṣṇ ko Viṣṇu ke avatār ke rūp men smaraṇ kiyā jātā hai. Laagos ke rūp men, Yīśu kā janm Param Pradhān Parameśvar kā dehadhāraṇ thā, jo ki sansār kā rachiyatā hai. Donon hī janmon kī bhaviṣyadvāṇiyon pahale se kī gaī thī, donon hī janmon men svargadūton kā upayog kiyā jātā hai, aur donon hī unake āne kā virodh karane vāle duṣṭ Rājāon dvārā khatare men paḍ gae the.

Parantu Yīśu ke vistṛt janm ke pīche kyā uddeśya thā? Vah kyon āyā thā? Mānavīy itihās ke ārambh se hī, Param Pradhān Parameśvar ne ghoṣit kar diyā thā ki vah hamārī sabase gaharī āvaśyakatāon ko pūrā karegā. Jaise Kṛṣṇ Kālanemi ko naṣṭ karane ke lie āe the, vaise hī Yīśu apane virodhī ko naṣṭ karane ke lie āe, jo hamen bandī banāe huā thā. Jaise-jaise ham susamāchāron men Yīśu ke jīvan kā patā lagāte chale jāenge, vaise-vaise ham isake viṣay men aur adhik sīkhate chale jāegen ki yah ham par kaise lāgū hotā hai, aur āj hamāre lie isakā kyā arth hai.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *